वॉरेन बफेट को नहीं मिल रही इन्वेस्टमेंट की जगह,...

वॉरेन बफेट को नहीं मिल रही इन्वेस्टमेंट की जगह, महीने में 10,000 Cr बढ़ रहा कैश -

Score: 1 Votes: 1
Shutterstock 1013504321
Deal Subedar
2
9
2652
26

https://cdn0.desidime.com/attachments/photos/260702/medium/3634416warren_1476325739.jpg?1480960099
DD can email to Buffet

ओमाहा(अमेरिका).दुनिया के तीसरे सबसे अमीर शख्स वॉरेन बफेट इन दिनों ज्यादा पैसों की वजह से परेशान हैं। उनके पास हर महीने इतना पैसा आ रहा है कि निवेश करने की जगह ही कम पड़ गई। बुधवार को सामने आई एक रिपोर्ट में ये खुलासा किया गया है। बफेट की कंपनी बर्कशायर हैथवे के पास इस समय करीब 7,300 करोड़ डॉलर (4.85 लाख करोड़ रुपए) कैश है। यह रकम तेजी से बढ़ रही है। बर्कशायर कंपनी 90 तरह का कारोबार करती है। इनसे उन्हें हर महीने 1,500 करोड़ डॉलर (9,980 करोड़ रुपए) नकद मिल रहे हैं। इसी साल से बढ़ना शुरू हुआ कैश…
- बफेट के पास ये नकदी इसी साल जनवरी से लगातार बढ़ रही है।
- जनवरी में बफेट ने एविएशन कंस्ट्रक्शन वर्क कंपनी प्रेक्सिशन कास्टपार्ट 2.15 लाख करोड़ रुपए में एक्वायर की थी। बर्कशायर के इतिहास का यह सबसे बड़ा एक्वायरमेंट था।
- इस एक्वायरमेंट के बाद से ही वॉरेन बफेट के पास कैश बढ़ता जा रहा है।
- ये मुनाफा उन्हें या तो पूरी की पूरी किसी कंपनी को खरीदने से हो रहा है या वे किसी कंपनी के ज्यादातर शेयर खरीद लेते हैं।
पूरी रकम कैश में नहीं है
- इन्वेस्टर एंडी किलपैट्रिक का कहना है कि उन्हें लगता है कि वह सही कीमत चुकाते हुए किसी शानदार डील की तलाश में है।
- ये वही एंडी हैं, जिन्होंने ‘ऑफ परमानेंट वैल्यू : द स्टोरी ऑफ वॉरेन बफेट’ नामक किताब लिखी थी।
- वैसे साफ कर दें कि बर्कशायर के पास जितनी भी नकदी है, वह पूरी तरह ‘अवेलेबल’ नहीं है।
- दरअसल, कंपनी को अपने पास कम से कम 1.33 लाख करोड़ रुपए की रकम रखनी ही है, ताकि बर्कशायर की इन्श्योरेंस कंपनियां इस पैसे को किसी बड़े क्लेम या किसी और जरूरत के समय इस्तेमाल कर सकें।
https://cdn0.desidime.com/attachments/photos/260711/medium/3634416maxresdefault.jpg?1480960104


बफेट बताते नहीं क्या खरीदेंगे
- ओमाहा की यूनिवर्सिटी में प्रोफेसर जॉर्ज मॉर्गेन का कहना है कि वॉरेन क्या खरीदने जा रहे हैं, इसके बारे में ज्यादा बात नहीं करते।
- जिन कंपनियों से डील की बातचीत रद्द करते हैं, उनके बारे में भी वह बात नहीं करते। फिर भी इन्वेस्टर्स उनकी अगली खरीद पर कयास लगाने में जुटे हैं।
- मोर्गन को लगता है कि वह पेट फूड कन्फेक्शनरी कंपनी मार्स कैंडी खरीद सकते हैं, यदि वे लोग इसे बेचना चाहें तो।
ज्यादा इंटरेस्ट नहीं पा रही बफेट की कंपनी
- कुछ निवेशकों को लगता है कि वह अपनी यूटिलिटी यूनिट का विस्तार कर सकते हैं।
- हाल-फिलहाल इंटरेस्ट रेट को लेकर जो माहौल कायम है, उसमें बर्कशायर अपने पास इकट्ठा कैश से ज्यादा इंटरेस्ट नहीं कमा पा रहा है।

https://cdn0.desidime.com/attachments/photos/260720/medium/363441620140228051413_1476325743.jpg?1480960112


  • In
4 Comments  |  
4 Dimers
A2z1
Deal Major
83
2,004
17321
145

Go have buffet breakfast.. apne ko kya karna yeh waren buffet se
DD pe maja kar… https://cdn2.desidime.com/assets/textile-editor/icon_toungueout.gif

Large
Deal Cadet
0
52
646
7

paisa hi sabkuch nhi hota

Draw
Deal Colonel
10
1,179
52060
1047
@A2Zdeals wrote:

Go have buffet breakfast.. apne ko kya karna yeh waren buffet se
DD pe maja kar… https://cdn2.desidime.com/assets/textile-editor/icon_toungueout.gif


jus due to saving from paytm

Shutterstock 1013504321
Deal Subedar
2
9
2652
26
@AKA wrote:

paisa hi sabkuch nhi hota


ha rupya bhi chaiye

Missing