दुख हमारी व्याख्या है!

दुख हमारी व्याख्या है!

Score: 3 Votes: 3
Score: 3 Votes: 3
Score: 3 Votes: 3
Baba ji
Deal Lieutenant
7
398
5090
103

अमरीका के एक महानगर में एक होटल का मालिक अपने मित्र से रोज की शिकायतें कर रहा था कि धंधा बहुत खराब है, और धंधा रोज-रोज नीचे गिरता जा रहा है; होटल में अब उतने मेहमान नहीं आते।

उसके मित्र ने कहा, लेकिन तुम क्या बातें कर रहे हो? मैं तुम्हारे होटल पर रोज ही नो वेकेंसी की तख्ती लगी देखता हूं–कि जगह खाली नहीं है। उसने कहा, वह तख्ती छोड़ो एक तरफ। आज से चार महीने पहले कम से कम सौ ग्राहकों को रोज वापस लौटाता था, अब मुश्किल से पंद्रह-बीस को लौटा रहा हूं। धंधा रोज गिर रहा है।

आदमी की व्याख्याएं हैं। धंधा उतना ही है, लेकिन ग्राहक कम लौट रहे हैं, इससे भी पीड़ा है। धंधे में रत्ती भर का फर्क नहीं पड़ा है, लेकिन वह आदमी दुखी है। और उसके दुख में कोई शक करने की जरूरत नहीं, उसका दुख सच्चा है; वह भोग रहा है दुख।

दुख हमारी व्याख्या है। कष्ट बाहर से मिल सकता है। इसलिए कष्ट से तो बुद्ध भी पार नहीं हो सकते। जब तक शरीर है, तब तक कष्ट दिया जा सकता है। लेकिन दुख देने का कोई उपाय नहीं। क्योंकि कष्ट बाहर ही रह जाएगा। उसकी दुख की भांति व्याख्या नहीं की जाएगी।

ओशो / ताओ उपनिषाद (भाग–4), प्रवचन–78

http://www.oshoarena.com/2016/09/10/%E0%A4%A6%E...

12 Comments  |  
5 Dimers
A2z1
Deal Major
135
122
28026
246

यह जो मुख है, इसकी वाणी के कारण आधे दुःख है

Baba ji
Deal Lieutenant
7
398
5090
103
@A2Zdeals wrote:

यह जो मुख है, इसकी वाणी के कारण आधे दुःख है


वाह वाह। क्या बात है https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif

Large
Deal Cadet
0
52
748
10

sambhog bawa

Draw
Deal Colonel
10
1,184
55738
1091
@xuseronline wrote:

@Alpha.Barood https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif


1. The decline of customers frequently conveys that hotel is most desired, still people are crazy, hence, good chance to increase the tariff and open more branches/capacity increase.

2. The no. of refusal reducing shows that people already know that room will not be available like irctc, or some other competitor has started offering similar service like Air India. So, no point is depression. Only the strategy to be revised.

Baba ji
Deal Lieutenant
7
398
5090
103
@Alpha.Barood wrote:

@xuseronline wrote:

@Alpha.Barood https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif


1. The decline of customers frequently conveys that hotel is most desired, still people are crazy, hence, good chance to increase the tariff and open more branches/capacity increase.

2. The no. of refusal reducing shows that people already know that room will not be available like irctc, or some other competitor has started offering similar service like Air India. So, no point is depression. Only the strategy to be revised.


आपने तो बिज़नस एनालिसिस कर डाला https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_biggrin.gif

Baba ji
Deal Lieutenant
7
398
5090
103
@AKA wrote:

sambhog bawa


भगवान में आस्था को मजबूत करता है संभोग: स्टडी http://navbharattimes.indiatimes.com/other/home...
https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_biggrin.gif

संभोग को लेकर एक रिसर्च में जो खुलासा हुआ है, उसे सुनकर आप चौंक जाएंगे। वैज्ञानिकों का दावा है कि संभोग के दौरान जो हॉर्मोन रिलीज होता है, उससे अध्यात्म को बढ़ावा मिलता है और भगवान के प्रति आस्था मजबूत होती है।

रिसर्च के मुताबिक, संभोग क्रिया के दौरान ऑक्सिटॉसिन नाम का हॉर्मोन निकलता है। यह हॉर्मोन न सिर्फ सामाजिक बंधन को मजबूत करता है और महिलाओं में बच्चों के जन्म में मदद करता है बल्कि धर्म के प्रति लगाव को भी बढ़ाता है।

अमेरिकी की ड्यूक यूनिवर्सिटी की एक टीम ने यह रिसर्च किया है। स्टडी के दौरान उनलोगों ने मध्य आयु के लोगों में ऑक्सिटॉसिन के स्तर को बढ़ाया और उनके अंदर आध्यात्म की भावना बढ़ी हुई पाई गई। इसका असर एक हफ्ते के बाद भी रहा। जिनलोगों को हॉर्मोन प्राप्त हुआ, मेडिटेशन के दौरान उनमें ज्यादा पॉजिटिव इमोशंस पाए गए।

स्टडी के लीथ ऑथर और सोशल साइकॉलजिस्ट पैटी वॉन कापैलन ने कहा, ‘अध्यात्म और ध्यान स्वास्थ्य और कल्याण से आपस में जुड़े हुए हैं। हम उन जैविक कारकों के बारे में जानने के लिए इच्छुक थे, जो आध्यात्मिक अनुभव को बढ़ाते हैं। ऑक्सिटॉसिन को आध्यात्मिक सोच को बढ़ावा देने में सहायक पाया गया।’

Open uri20161119 27009 2xv7rv
Deal Captain
0
276
10787
164
@Alpha.Barood wrote: Dont agree @xuseronline

could you please quote (or refer) to the exact post from xuserownline to which you do not agree ?

you do not agree to the ‘business alliance’ one https://cdn0.desidime.com/attachments/photos/280893/medium/3596314icon_confused.gif?1480970664 or with the S3 / SSS## one https://cdn0.desidime.com/attachments/photos/280893/medium/3596314icon_confused.gif?1480970664?



## SSS = Sambhog Study ~ Spirituality

Open uri20161119 27009 2xv7rv
Deal Captain
0
276
10787
164
@xuseronline wrote: ..भगवान में आस्था को मजबूत करता है संभोग: स्टडी ..

call it old school thought or wise advice

but it is often said that
Bhajan (connectivity to Almighty)
Bhojan; and
Sambhog (following the God’s word.. in action)

ought to be done at peace / ekaant mei.. shaanti sei..
as in unhurriedly and/or with undivided attention.

ONLY that is the best or rather THE ONLY way to do it right.
.
.
.
so this does make sense that all three are interconnected.. it bodes well for one to do do these right. (if one is done right then 2 & 3 too will get done right.. if 2 is done right then 1 and 3 … ..
and if 3 is done correctly, timely then it WILL help with 1 and 2)
.
.
.
CC: @[email protected]_0_0_D over to you for more. (you’d have more in-depth understanding and experience of the three)

Baba ji
Deal Lieutenant
7
398
5090
103
@Spock wrote:

@xuseronline wrote: ..भगवान में आस्था को मजबूत करता है संभोग: स्टडी ..

call it old school thought or wise advice

but it is often said that
Bhajan (connectivity to Almighty)
Bhojan; and
Sambhog (following the God’s word.. in action)

ought to be done at peace / ekaant mei.. shaanti sei..
as in unhurriedly and/or with undivided attention.

ONLY that is the best or rather THE ONLY way to do it right.
.
.
.
so this does make sense that all three are interconnected.. it bodes well for one to do do these right. (if one is done right then 2 & 3 too will get done right.. if 2 is done right then 1 and 3 … ..
and if 3 is done correctly, timely then it WILL help with 1 and 2)
.
.
.
CC: @[email protected]_0_0_D over to you for more. (you’d have more in-depth understanding and experience of the three)


Thanks @Spock Bhai.
Baarood bhai has change username to @Alpha.Barood so as you have taged him as barood, he might not have recd. the alert.

@Alpha.Barood – Osho has explained it very well in his discourses – सम्भोग से समाधी तक ! You may would like to listen / read https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif I have recently started reading / listening Osho and loving him.

Missing