Hotness SAVE COW

Hot Deal SAVE COW

736°
Missing
Deal Subedar
336
1586
68
SAVE COW
Deal Expired

पूरी post नहीं पढ़ सकते तो यहाँ click करे !

पहले आप सब ये जान ले भारत मे 3600 कत्लखाने ऐसे हैं जिनके पास गाय काटने का लाइसेन्स है ! इसके इलावा 36000 कत्लखाने गैर कानूनी चल रहे हैं ! प्रति वर्ष ढाई करोड़ गायों का कत्ल किया जाता है ! 1 से सवा करोड़ भैंसो का , और 2 से 3 करोड़ सुअरो का ,बकरे -बकरियाँ ,मुर्गे मुर्गियाँ आदि छोटे जानवरों की संख्या भी करोड़ो मे हैं गिनी नहीं जा सकती ! तो भारत एक ऐसा देश बन गया है जहां कत्ल ही कत्ल होता है !

तो ये सब जब उनको सहन नहीं हुआ तो सन 1998 मे राजीव भाई और राजीव भाई जैसे कुछ समविचारी लोगो ने सुप्रीम कोर्ट मे मुक़द्दमा किया ! एक संस्था है भारत मे अखिल भारतीय गौ सेवक संघ जिससे राजीव भाई जुड़े हुए थे और इस संस्था का मुख्य कार्यालय जो की राजीव भाई के शहर वर्धा मे ही है !! और एक दूसरी संस्था है उसका नाम है अहिंसा आर्मी ट्रस्ट !तो इन दोनों ने सुप्रीम कोर्ट मे मुक़द्दमा दाखिल किया और बाद मे पता चला की गुजरात सरकार भी मुक़द्दमे मे शामिल हो गई !

तो सुप्रीम कोर्ट मे मुक़द्दमा किया गया कि गाय और गौ वंश की ह्त्या नहीं होनी चाहिए ! तो सामने
बैठे कसाई लोगो ने कहा क्यूँ नहीं होनी चाहिए ?? जरूर होनी चाहिए ! तो राजीव भाई की तरफ से सुप्रीम कोर्ट मे अपील किया गया कि ये एक -दो जज का मामला नहीं है आप इसमे बड़ी बैंच बनाई जाए !
3-4 साल तो सुप्रीम कोर्ट ने स्वीकार नहीं किया बाद मे मान लिया की चलो इसके लिए constitutional bench बनाई जाएगी ! भारत के थोड़े दिन पहले चीफ जस्टिस रहे श्री RC लाहोटी ने अपनी अध्यक्षता मे 7 जजो की एक constitutional bench बनाई जिसमे 2004 से सितंबर 2005 तक मुकदमे की सुनवाई चली !!

कसाइयो की तरफ से लड़ने वाले भारत के सभी बड़े -बड़े वकील जो 50 -50 लाख तक फीस लेते हैं
सोली सोराब्जी की बीस लाख की फीस है !, कपिल सिब्बल 22 लाख की फीस है ! महेश जेठ मालानी राम जेठ मालानी का लड़का जो फीस लेते है ३२ लाख से ३४ लाख सारे सभी बड़े वकील कसाइयों के पक्ष में !! राजीव भाई के तरफ से लड़ने वाला कोई बड़ा वकील नहीं क्यूंकि फीस देने का इतना पैसा नहीं !तो राजीव भाई ने आदालत को कहा की हमारे पास तो कोई वकील नहीं है तो क्या करेगे ?? तो आदालत ने कहा की हम अगर आपको वाकिल दे ??? तो राजीव भाई ने कहा बड़ी मेहरबानी होगी या फिर आप हमें ही बहस का मौका दे दो तो बड़ी मेहरबानी होगी !! तो उन्होंने कहा की हां आप ही बहस कर लो और हम आपको एम् इ एस्क्युरी देगे यानि कोर्ट के द्वारा दिया गाया वकील और फिर हमने ये केस लड़ना शुरू किया !

तो मुक़द्दमे मे कसाईयो द्वारा गाय काटने के लिए वही सारे कुतर्क रखे गए जो कभी शरद पवार द्वारा बोले गए या इस देश के ज्यादा पढ़ें लिखे लोगो द्वारा बोले जाते है या देश के पहले प्रधान मंत्री नेहरू द्वारा कहे गए !

कसाईयो का पहला कुतर्क !!

1) गाय जब बूढ़ी हो जाती है तो बचाने मे कोई लाभ नहीं उसे कत्ल करके बेचना ही बढ़िया है ! और हम भारत की अर्थ व्यवस्था को मजबूत बना रहे हैं क्यूंकि गाय का मांस export कर रहे हैं !!

दूसरा कुतर्क !

2) भारत मे गाय के चारे की कमी है ! भूखी मरे इससे अच्छा ये है हम उसका कत्ल करके बेचें !

तीसरा कुतर्क

3) भारत मे लोगो को रहने के लिए जमीन नहीं है गाय को कहाँ रखें ?

चौथा कुतर्क

4 ) इससे विदेशी मुद्रा मिलती है !

और सबसे खतरनाक कुतर्क जो कसाइयों की तरफ से दिया गया कि गया की ह्त्या करना हमारे धर्म इस्लाम मे लिखा हुआ है की हम गायों की ह्त्या करें !! (this is our religious right ) !
कसाई लोग कौन है आप जानते है ??मुसलमानो मे एक कुरेशी समाज है जो सबसे ज्यादा जानवरों की ह्त्या करता है ! उनकी तरफ से ये कुतर्क आयें !

राजीव भाई की तरफ से बिना क्रोध प्रकट किए बहुत ही धैर्य से इन सब कुतर्को का तर्कपूर्वक जवाब दिया !

उनका पहला कुतर्क गाय का मांस बेचते हैं तो आमदनी होती है देशो को ! तो राजीव भाई ने सारे आंकड़े सुप्रीम कोर्ट मे रखे कि एक गाय को जब काट देते हैं तो उसके शरीर मे से कितना मांस निकलता है ??? कितना खून निकलता है ?? कितनी हड्डियाँ निकलती हैं ??

एक सव्स्थय गाय का वजन 3 से साढ़े तीन कवींटल होता है उसे जब काटे तो उसमे से मात्र 70 किलो मांस निकलता है एक किलो गाय का मांस जब भारत से export होता है तो उसकी कीमत है लगभग 50 रुपए ! तो 70 किलो का 50 से गुना को ! 70 × 50 = 3500 रुपए !

खून जो निकलता है वो लगभग 25 लीटर होता है ! जिससे कुल कमाई 1500 से 2000 रुपए होती है
फिर हड्डियाँ निकलती है वो भी 30-35 किलो हैं ! जो 1000 -1200 के लगभग बिक जाती है !!
तो कुल मिलकर एक गाय का जब कत्ल करे और मांस ,हड्डियाँ खून समेत बेचें तो सरकार को या कत्ल करने वाले कसाई को 7000 रुपए से ज्यादा नहीं मिलता !!

फिर राजीव भाई द्वारा कोर्ट के सामने उल्टी बात रखी गई यही गाय को कत्ल न करे तो क्या मिलता है ??? हमने कत्ल किया तो 7000 मिलेगा और अगर इसको जिंदा रखे तो कितना मिलेगा ??
तो उसका calculation ये है !!

एक सव्स्थ्य गाय एक दिन मे 10 किलो गोबर देती है और ढाई से 3 लीटर मूत्र देती है ! गाय के एक किलो गोबर से 33 किलो fertilizer (खाद ) बनती है !जिसे organic खाद कहते हैं तो कोर्ट के जज ने कहा how it is possible ??

राजीव भाई द्वारा कहा गया आप हमे समय दीजिये और स्थान दीजिये हम आपको यही सिद्ध करके बताते हैं ! तो कोर्ट ने आज्ञा दी तो राजीव भाई ने उनको पूरा करके दिखाया !! और कोर्ट से कहा की आई. आर. सी. के वैज्ञानिक को बुला लो और टेस्ट करा लो !!! तो गाय का गोबर कोर्ट ने भेजा टेस्ट करने के लिए ! तो वैज्ञानिको ने कहा की इसमें 18 micronutrients (पोषक तत्व )है !जो सभी खेत की मिट्टी को चाहिए जैसे मैगनीज है ! फोस्फोरस है ! पोटाशियम है, कैल्शियम,आयरन,कोबाल्ट, सिलिकोन ,आदि आदि | रासायनिक खाद मे मुश्किल से तीन होते हैं ! तो गाय का खाद रासायनिक खाद से 10 गुना ज्यादा ताकतवर है !तो कोर्ट ने माना !!

राजीव भाई ने कहा अगर आपके र्पोटोकोल के खिलाफ न जाता हो तो आप चलिये हमारे साथ और देखे कहाँ – कहाँ हम 1 किलो गोबर से 33 किलो खाद बना रहे हैं राजीव भाई ने कहा मेरे अपने गाँव मे मैं बनाता हूँ ! मेरे माता पिता दोनों किसान है पिछले 15 साल से हम गाय के गोबर से ही खेती करते हैं !
तो 1 किलो गोबर है तो 33 किलो खाद बनता है ! और 1 किलो खाद का जो अंराष्ट्रीय बाजार मे भाव है वो 6 रुपए है !तो रोज 10 किलो गोबर से 330 किलो खाद बनेगी ! जिसे 6 रुपए किलो के हिसाब से बेचें तो 1800 से 2000 रुपए रोज का गाय के गोबर से मिलता है !

और गाय के गोबर देने मे कोई sunday नहीं होता weekly off नहीं होता ! हर दिन मिलता है ! तो साल मे कितना ??? 1800 का 365 मे गुना कर लो !
1800 × 365 = 657000 रुपए !साल का !
और गाय की समानय उम्र 20 साल है और वो जीवन के अंतिम दिन तक गोबर देती है !
तो 1800 गुना 365 गुना 20 कर लो आप !! 1 करोड़ से ऊपर तो मिल जाएगा केवल गोबर से !

और हजारो लाखों वर्ष पहले हमारे शास्त्रो मे लिखा है की गाय के गोबर मे लक्ष्मी जी का वास है !!
और मेकोले के मानस पुत्र जो आधुनिक शिक्षा से पढ़ कर निकले हैं जिनहे अपना धर्म ,संस्कृति – सभ्यता सब पाखंड ही लगता है !हमेशा इस बात का मज़ाक उड़ाते है ! कि हाहाहाःहाहा गाय के गोबर मे लक्ष्मी !
तो ये उन सबके मुंह पर तमाचा है ! क्यूंकि ये बात आज सिद्ध होती है की गाय के गोबर से खेती कर ,अनाज उत्पादन कर धन कमाया जा सकता है और पूरे भारत का पेट भरा जा सकता है !

अब बात करते हैं मूत्र की रोज का 2 – सवा दो लीटर !! और इससे ओषधियाँ बनती है
diabetes ,की ओषधि बनती है !
arthritis,की ओषधि बनती है
bronkitis, bronchial asthma, tuberculosis, osteomyelitis ऐसे करके 48 रोगो की ओषधियाँ बनती है !! और गाय के एक लीटर मूत्र का बाजार मे दवा के रूप मे कीमत 500 रुपए है ! वो भी भारत के बाजार मे ! अंतर्राष्ट्रीय बाजार मे तो इससे भी ज्यादा है !! आपको मालूम है ?? अमेरिका मे गौ मूत्र patent हैं ! और अमरीकी सरकार हर साल भारत से गाय का मूत्र import करती है और उससे कैंसर की medicine बनाते हैं !! diabetes की दवा बनाते हैं ! और अमेरिका मे गौ मूत्र पर एक दो नहीं तीन patent है ! अमेरिकन market के हिसाब से calculate करे तो 1200 से 1300 रुपए लीटर बैठता है एक लीटर मूत्र ! तो गाय के मूत्र से लगभग रोज की 3000 की आमदनी !!!
और एक साल का 3000 × 365 =1095000
और 20 साल का 300 × 365 × 20 = 21900000 !

इतना तो गाय के गोबर और मूत्र से हो गया !! एक साल का !

और इसी गाय के गोबर से एक गैस निकलती है जिसे मैथेन कहते हैं और मैथेन वही गैस है जिससे आप अपने रसोई घर का सिलंडर चला सकते हैं और जरूरत पड़ने पर गाड़ी भी चला सकते हैं 4 पहियो वाली गाड़ी भी !!

जैसे LPG गैस से गाड़ी चलती है वैसे मैथेन गैस से भी गाड़ी चलती है !तो न्यायधीश को विश्वास नहीं हुआ ! तो राजीव भाई ने कहा आप अगर आज्ञा दो तो आपकी कार मे मेथेन गैस का सिलंडर लगवा देते हैं !! आप चला के देख लो ! उन्होने आज्ञा दी और राजीव भाई ने लगवा दिया ! और जज साहब ने 3 महीने गाड़ी चलाई ! और उन्होने कहा its excellent ! क्यूंकि खर्चा आता है मात्र 50 से 60 पैसे किलोमीटर और डीजल से आता है 4 रुपए किलो मीटर ! मेथेन गैस से गाड़ी चले तो धुआँ बिलकुल नहीं निकलता ! डीजल गैस से चले तो धुआँ ही धुआँ !! मेथेन से चलने वाली गाड़ी मे शोर बिलकुल नहीं होता ! और डीजल से चले तो इतना शोर होता है कान फट जाएँ !! तो ये सब जज साहब की समझ मे आया !!

तो फिर हमने कहा रोज का 10 किलो गोबर एकठ्ठा करे तो एक साल मे कितनी मेथेन गैस मिलती है ?? और 20 साल मे कितनी मिलेगी और भारत मे 17 करोड़ गाय है सबका गोबर एक साथ इकठ्ठा करे और उसका ही इस्तेमाल करे तो 1 लाख 32 हजार करोड़ की बचत इस देश को होती है ! बिना डीजल ,बिना पट्रोल के हम पूरा ट्रांसपोटेशन इससे चला सकते हैं ! अरब देशो से भीख मांगने की जरूरत नहीं और पट्रोल डीजल के लिए अमेरिका से डालर खरीदने की जरूरत नहीं !!अपना रुपया भी मजबूत !

तो इतने सारे calculation जब राजीव भाई ने बंब्बाड कर दी सुप्रीम कोर्ट पर तो जज ने मान लिया गाय की ह्त्या करने से ज्यादा उसको बचाना आर्थिक रूप से लाभकारी है !

जब कोर्ट की opinion आई तो ये मुस्लिम कसाई लोग भड़क गए उनको लगा कि अब केस उनके हाथ से गया क्यूंकि उन्होने कहा था कि गाय का कत्ल करो तो 7000 हजार कि इन्कम ! और इधर राजीव भाई ने सिद्ध कर दिया कत्ल ना करो तो लाखो करोड़ो की इन्कम !!और फिर उन्होने ने अपना trump card खेला !! उन्होने कहा की गाय का कत्ल करना हमारा धार्मिक अधिकार है (this is our religious right )

तो राजीव भाई ने कोर्ट मे कहा अगर ये इनका धार्मिक अधिकार है तो इतिहास मे पता करो कि किस – किस मुस्लिम राजा ने अपने इस धार्मिक अधिकार का प्रयोग किया ?? तो कोर्ट ने कहा ठीक है एक कमीशन बैठाओ हिस्टोरीयन को बुलाओ और जीतने मुस्लिम राजा भारत मे हुए सबकी history निकालो दस्तावेज़ निकालो !और किस किस राजा ने अपने इस धार्मिक अधिकार का पालण किया ?

तो पुराने दस्तावेज़ जब निकाले गए तो उससे पता चला कि भारत मे जितने भी मुस्लिम राजा हुए एक ने भी गाय का कत्ल नहीं किया ! इसके उल्टा कुछ राजाओ ने गायों के कत्ल के खिलाफ कानून बनाए ! उनमे से एक का नाम था बाबर ! बाबर ने अपनी पुस्तक बाबर नामा मे लिखवाया है कि मेरे मरने के बाद भी गाय के कत्ल का कानून जारी रहना चाहिए ! तो उसके पुत्र हुमायु ने भी उसका पालण किया और उसके बाद जितने मुगल राजा हुए सबने इस कानून का पालन किया including ओरंगजेब !!

फिर दक्षिण भारत मे एक राजा था हेदर आली !टीपू सुल्तान का बाप !! उनसे एक कानून बनवाया था कि अगर कोई गाय की ह्त्या करेगा तो हैदर उसकी गर्दन काट देगा और हैदर अली ने ऐसे सेकड़ो कासयियो की गर्दन काटी थी जिन्होने गाय को काटा था फिर हैदर अली का बेटा आया टीपू सुलतान तो उसने इस कानून को थोड़ा हल्का कर दिया तो उसने कानून बना दिया की हाथ काट देना ! तो टीपू सुलतान के समय में कोई भी अगर गाय काटता था तो उसका हाथ काट दिया जाता था |

तो ये जब दस्तावेज़ जब कोर्ट के सामने आए तो राजीव भाई ने जज साहब से कहा कि आप जरा बताइये अगर इस्लाम मे गाय को कत्ल करना धार्मिक अधिकार होता तो बाबर तो कट्टर ईस्लामी था 5 वक्त की नमाज पढ़ता था हमायु भी था ओरंगजेब तो सबसे ज्यादा कट्टर था ! तो इनहोने क्यूँ नहीं गाय का कत्ल करवाया और क्यूँ ? गाय का कत्ल रोकने के लिए कानून बनवाए ??? क्यूँ हेदर अली ने कहा कि वो गाय का कत्ल करने वाले के हाथ काट देगा ??

तो राजीव भाई ने कोर्ट से कहा कि आप हमे आज्ञा दें तो हम ये कुरान शरीफ ,हदीस,आदि जितनी भी पुस्तके है हम ये कोर्ट मे पेश करते हैं और कहाँ लिखा है गाय का कत्ल करो ये जानना चाहतें है ! और आपको पता चलेगा कि इस्लाम की कोई भी धार्मिक पुस्तक मे नहीं लिखा है की गाय का कत्ल करो !
हदीस मे तो लिखा हुआ है कि गाय की रक्षा करो क्यूंकि वो तुम्हारी रक्षा करती है ! पेगंबर मुहमद साहब का statement है की गाय अबोल जानवर है इसलिए उस पर दया करो ! और एक जगह लिखा है गाय का कत्ल करोगे तो दोझक मे भी जमीन नहीं मिलेगी !मतलब जहनुम मे भी जमीन नहीं मिलेगी !!

तो राजीव भाई ने कोर्ट से कहा अगर कुरान ये कहती है मुहम्मद साहब ये कहते हैं हदीस ये कहती है तो फिर ये गाय का कत्ल कर धार्मिक अधिकार कब से हुआ ?? पूछो इन कसाईयो से ?? तो कसाई बोखला गए ! और राजीव भाई ने कहा अगर मक्का मदीना मे भी कोई किताब हो तो ले आओ उठा के !!

अंत कोर्ट ने उनको 1 महीने का पर्मिशन दिया की जाओ और दस्तावेज़ ढूंढ के लाओ जिसमे लिखा हो गाय का कत्ल करना इस्लाम का मूल अधिकार है ! हम मान लेंगे !! और एक महीने तक भी कोई दस्तावेज़ नहीं मिला !! कोर्ट ने कहा अब हम ज्यादा समय नहीं दे सकते ! और अंत 26 अक्तूबर 2005 judgement आ गया !! और आप चाहें तो judgement की copy
www.supremecourtcasel...om पर जाकर download कर सकते हैं !

ये 66 पनने का judgement है सुप्रीम कोर्ट ने एक इतिहास बाना दिया और उन्होंने कहा की गाय को काटना सांविधानिक पाप है धार्मिक पाप है ! और सुप्रीम कोर्ट ने कहा गौ रक्षा करना,सर्वंधन करना देश के प्रत्येक नागरिक का सांविधानिक कर्त्तव्य है ! सरकार का तो है ही नागरिकों का भी सांविधानिक कर्तव्य है ! अब तक जो संविधानिक कर्तव्य थे जैसे , संविधान का पालन करना ,राष्ट्रीय ध्वज ,का सम्मान करना ,क्रांतिकारियों का समान करना ,देश की एकता , अखंडता को बनाए रखना ! आदि आदि अब इसमे गौ की रक्षा करना भी जुड़ गया है !!

सुप्रीम कोर्ट ने कहा की भारत की 34 राज्यों कीसरकार की जिमेदारी है की वो गाय का कतल आपने आपने राज्य में बंद कराये और किसी राज्य में गाय का कतल होता है तो उस राज्य के मुख्यमंत्री की जिमेदारी है राज्यपाल की जावबदारी,चीफ सेकेट्री की जिमेदारी है, वो अपना काम पूरा नहीं कर रहे है तो ये राज्यों के लिए सविधानिक जवाबदारी है और नागरिको के लिए सविधानिक कर्त्तव्य है !!

अब कानून दो सतर पर बनाये जाते हैं एक जो केद्र सरकार बना सकती है और एक 35 राज्यों की राज्य सरकार बना सकती है अपने आपने राज्यों में !! अगर केंद्र सरकार ही बना दे !! तो किसी राज्य सरकार को बनाने की जरूरत नहीं ! केंद्र सरकार का कानून पूरे देश मे लागू होगा ! तो आप सब केंद्र सरकार पर दबाव बनाये !! जब तक केंद्र सरकार नहीं बनाती तब तक आप अपने अपने राज्य की सरकारों पर दबाव बनाये ! दबाव कैसे बनाना है ???

आपको हजारो ,लाखो की संख्या मे प्रधानमंत्री ,राष्ट्रपति या राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखना है और इतना ही कहना है की 26 अक्तूबर 2005 को जो सुप्रीम कोर्ट का judgment आया है उसे लागू करो !!
आप अपने -आस पड़ोस ,गली गाँव ,मुहल्ला ,शहर मे लोगो से बात करनी शुरू करे उनको गाय का महत्व समझाये !! देश के लिए गाय का आर्थिक योगदान बताएं ! और प्रधानमंत्री ,राष्ट्रपति या राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखने का निवेदन करें ! इतना दबाव डालें की 2014 के चुनाव मे लोगो उसी सरकार को वोट दें जो इस सुप्रीम कोर्ट के गौ ह्त्या के खिलाफ judgement को पूरे देश मे लागू करें !

CASE DETAILS – 2005 SCCL.COM 735(Case/Appeal No: Civil Appeal Nos. 4937-4940 of 1998 (with C.A. Nos. 4941-4944 and 4945 of 1998))
State of Gujarat Appellant with Shree Ahimsa Army Manav Kalyan Jeev Daya Charitable Trust Appellant with Akhil Bharat Krishi Goseva Sangh Appellant Vs. Mirzapur Moti Kureshi Kassab Jamat and others Respondents, decided on 10/26/2005.
Name of the Judge: Hon’ble the Chief Justice R.C. Lahoti, Hon. B.N. Agrawal, J., Hon. Arun Kumar, J., Hon. G.P. Mathur, J., Hon. A.K. Mathur, Hon. C.K.Thakker and Hon. P.K. Balasubramanyan, J..
Subject Index: Constitution of India — Article 19(1)(g), 48, 48-A and 51-A(g) — Majority decision — ban on slaughter of cow progeny imposed by Section 2 of Bombay Animal Preservation (Gujarat Amendment) Act, 1994 upheld in interest of general public under Article 19(1)(g) from social, religious and utility point of view considering usefulness of bulls etc., for agricultural operations like manure, bio-gas and ecology — Minority decision — bulls etc., rendered useless after attaining age of 15 years and considering considerable decrease in slaughter — ban imposed unreasonable — appeals allowed.

और अंत उस क्रांतिकारी मंगल पांडे ने इतिहास बना वो फांसी पर चढ़ गया लेकिन गाय की चर्बी के कारतूस उसने अपने मुंह से नहीं खोले ! और जिस अंग्रेज़ अधिकारी ने उसको मजबूर किया उसको मंगल पांडे ने गोली मर दी !! तो हमने कहा था कि हमारी तो आजादी का इतिहास शुरू होता है गौ रक्षा से !!

P.S – COW SLAUGHTERING IS NOT STARTED BY MUSLIMS..BRITISHER’S TORTURED MUSLIM COMMUNITY ESPECIALLY QURESHI TO START SLAUGHTERING OF COWS..SO THAT THEY CAN DIVIDE INDIA ON THE NAME OF RELIGION..WE ALL KNOW THE REST HOW HINDU N MUSLIM BROTHER ARE SEPARATED BY BRITISHERS ..THE SAME EFFECT IS STILL THERE..
Please Watch –

57 Comments  |  
17 Dimers
Missing
Deal Subedar
237
1340
74
ajit27 wrote:


आपको हजारो ,लाखो की संख्या मे प्रधानमंत्री ,राष्ट्रपति या राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखना है और इतना ही कहना है की 26 अक्तूबर 2005 को जो सुप्रीम कोर्ट का judgment आया है उसे लागू करो !!
आप अपने -आस पड़ोस ,गली गाँव ,मुहल्ला ,शहर मे लोगो से बात करनी शुरू करे उनको गाय का महत्व समझाये !! देश के लिए गाय का आर्थिक योगदान बताएं ! और प्रधानमंत्री ,राष्ट्रपति या राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखने का निवेदन करें ! इतना दबाव डालें की 2014 के चुनाव मे लोगो उसी सरकार को वोट दें जो इस सुप्रीम कोर्ट के गौ ह्त्या के खिलाफ judgement को पूरे देश मे लागू करें !


Bhai andhe logo ko kya patra likhein… aankh ke andhe ko to fir bhi bolkar samjhaya ja sakta hai, lekin akal ke andho ko kaise samjhaya jaaye… https://cdn2.desidime.com/assets/textile-editor/icon_evil.gif

Missing
Deal Subedar
336
1586
68
Jagsss wrote:

ajit27 wrote:


आपको हजारो ,लाखो की संख्या मे प्रधानमंत्री ,राष्ट्रपति या राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखना है और इतना ही कहना है की 26 अक्तूबर 2005 को जो सुप्रीम कोर्ट का judgment आया है उसे लागू करो !!
आप अपने -आस पड़ोस ,गली गाँव ,मुहल्ला ,शहर मे लोगो से बात करनी शुरू करे उनको गाय का महत्व समझाये !! देश के लिए गाय का आर्थिक योगदान बताएं ! और प्रधानमंत्री ,राष्ट्रपति या राज्य के मुख्यमंत्री को पत्र लिखने का निवेदन करें ! इतना दबाव डालें की 2014 के चुनाव मे लोगो उसी सरकार को वोट दें जो इस सुप्रीम कोर्ट के गौ ह्त्या के खिलाफ judgement को पूरे देश मे लागू करें !


Bhai andhe logo ko kya patra likhein… aankh ke andhe ko to fir bhi bolkar samjhaya ja sakta hai, lekin akal ke andho ko kaise samjhaya jaaye… https://cdn2.desidime.com/assets/textile-editor/icon_evil.gif


bro our responsibility is to complete the duty from our side, is there responsibility to complete their duty, at least we are right ..where we stand by putting some little effort.. https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif

Missing
Deal Captain
75
13196
225

Human Become Devil

No Matter Which Religion You Belongs To We All Drink Cow Milk From Birth And When We Grow Younger We Cut Cow And Eat

That’s Mean You Cutting Your Mother And Eating Who Help You To Feed You When You Are Not Able To Eat Hard Food….Bitter Truth Accept Or Just Ignore Behind Your Status And Hobby To Eat Other Life….

F***king Humans I Hate Them More Than Demons………Even Demons Never Kill And Eat Who Feed Them

Missing
Deal Captain
75
13196
225

Hope World War Start Soon And We Kill Each Other And End Of Human Era….

Missing
Deal Cadet
143
120
13

Complete bullshit, I say.

1 kilo gobar se 33 kilo khad banta hai – baki 32 kilo kahaan se aata hai? How much does that 32 kg cost? And how much food does the cow eat to produce that 1 kilo cowdung? What about the cost of that?

And these kind of arguments are given out???

I must say someone doesn’t know shit. https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif

(Nothing about the judgement or the topic, just criticizing the crappy argument.)

Missing
Deal Captain
75
13196
225
sghosh wrote:

Complete bullshit, I say.

1 kilo gobar se 33 kilo khad banta hai – baki 32 kilo kahaan se aata hai? How much does that 32 kg cost? And how much food does the cow eat to produce that 1 kilo cowdung? What about the cost of that?

And these kind of arguments are given out???

I must say someone doesn’t know shit. https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif

(Nothing about the judgement or the topic, just criticizing the crappy argument.)


Bullshit Is Your Comment https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif

1Kg Gobar You Have To Mix With Waste And Earth Than You Will Get 33Kg This Is Full Process Not Like You Keep 1Kg Gobar On Your Head And It Become 33kg In Week https://cdn2.desidime.com/assets/textile-editor/icon_toungueout.gif

If You Don’t Know Than Avoid Your Faltu Comment

Missing
Deal Subedar
336
1586
68
wolf wrote:

Human Become Devil

No Matter Which Religion You Belongs To We All Drink Cow Milk From Birth And When We Grow Younger We Cut Cow And Eat

That’s Mean You Cutting Your Mother And Eating Who Help You To Feed You When You Are Not Able To Eat Hard Food….Bitter Truth Accept Or Just Ignore Behind Your Status And Hobby To Eat Other Life….

F***king Humans I Hate Them More Than Demons………Even Demons Never Kill And Eat Who Feed Them


Ditto bro.. You should never cut the animal from whom you get Milk, its like cutting your mother and nothing bad can happen than this..and this is shameful that Indian cut cows for foreigner’s ..those people laugh on us..that INDIAN’s ARE SO HUNGRY FOR MONEY THAT THEY CUT THE ANIMAL WHICH IS LIKE GOD FOR THEM AND THEIR RELIGION..AND THEY ARE HAPPY TO BREAK OUR RELIGIOUS VALUES..

Missing
Deal Subedar
336
1586
68
sghosh wrote:

Complete bullshit, I say.

1 kilo gobar se 33 kilo khad banta hai – baki 32 kilo kahaan se aata hai? How much does that 32 kg cost? And how much food does the cow eat to produce that 1 kilo cowdung? What about the cost of that?

And these kind of arguments are given out???

I must say someone doesn’t know shit. https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif

(Nothing about the judgement or the topic, just criticizing the crappy argument.)


Please don’t post idiot thoughts ..if you don’t know anything..The Court has given order to stop slaughtering of cow, because it was proved scientifically.. And moreover our religion and thought’s are more powerful and full of knowledge ..our ved have so much of knowledge that even science dont have that..even-though they were written thousand of years ago.. and cow is like god according to them..

Missing
Deal Cadet
143
120
13
wolf wrote:

sghosh wrote:

Complete bullshit, I say.

1 kilo gobar se 33 kilo khad banta hai – baki 32 kilo kahaan se aata hai? How much does that 32 kg cost? And how much food does the cow eat to produce that 1 kilo cowdung? What about the cost of that?

And these kind of arguments are given out???

I must say someone doesn’t know shit. https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif

(Nothing about the judgement or the topic, just criticizing the crappy argument.)


Bullshit Is Your Comment https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif

1Kg Gobar You Have To Mix With Waste And Earth Than You Will Get 33Kg This Is Full Process Not Like You Keep 1Kg Gobar On Your Head And It Become 33kg In Week https://cdn2.desidime.com/assets/textile-editor/icon_toungueout.gif

If You Don’t Know Than Avoid Your Faltu Comment


Nope, my friend, do the math.

If you really get 33kg fertilizer from one kg of cowdung, without any additional cost, and overall get around Rs 2000 worth of fertilizers alone from one cow per day, not to mention the milk – each of the friendly neighbourhood doodhwalas would be a millionaire by now. Tell them these figures, and you will then see that they do not even have money to get a decent dental job done.

Missing
Deal Subedar
336
1586
68
rajdesidime wrote:

why only cow, save all animals…


SAVE ALL..but better to start with cow..:lol: https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif

Missing
Deal Subedar
336
1586
68
@[email protected]_0_0_D wrote:@

ajit ,

isnt is repost ?


It’s just a effort ..so that more and more people will know about these issues..even if its new and informative for single person then this thread is meaningful..

Missing
Deal Subedar
336
1586
68

FEW DAY’s BACK ON THE DAY OF JANMASHTAAMI ..FEW TRUCK’S WERE CAUGHT NEAR JAIPUR-DELHI HIGHWAY..THOSE WERE TAKING COW’S FOR SLAUGHTERING ..VILLAGERS BRUNT ALL THOSE TRUCKS..AFTER RESCUING ALL COW’S..

Missing
Deal Cadet
241
622
51
ajit27 wrote:

rajdesidime wrote:

why only cow, save all animals…


SAVE ALL..but better to start with cow..:lol: https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif


Brother please have a translation of this topic…Since in Hindi its very difficult…

Missing
Deal Cadet
241
622
51
ajit27 wrote:

wolf wrote:

Human Become Devil

No Matter Which Religion You Belongs To We All Drink Cow Milk From Birth And When We Grow Younger We Cut Cow And Eat

That’s Mean You Cutting Your Mother And Eating Who Help You To Feed You When You Are Not Able To Eat Hard Food….Bitter Truth Accept Or Just Ignore Behind Your Status And Hobby To Eat Other Life….

F***king Humans I Hate Them More Than Demons………Even Demons Never Kill And Eat Who Feed Them


Ditto bro.. You should never cut the animal from whom you get Milk, its like cutting your mother and nothing bad can happen than this..and this is shameful that Indian cut cows for foreigner’s ..those people laugh on us..that INDIAN’s ARE SO HUNGRY FOR MONEY THAT THEY CUT THE ANIMAL WHICH IS LIKE GOD FOR THEM AND THEIR RELIGION..AND THEY ARE HAPPY TO BREAK OUR RELIGIOUS VALUES..


Brother ..What I have heard is cow’s milk is not the best for children and has some cons also
http://www.indianexpress.com/news/cow-milk-for-….
So we should not kill goat which gives milk(is a better milk for children),For Arabs camel is the milk giver,eggs laying hens we are killing like any thing.

Next when comming to the religion point ,I’m from kerala with a majority about 50+% are hindus and rest are minorities.Here I cannot see any respect shown to cows by any one.Only people growing cows are poor people(irrespective of religion for their livelihood) or big dairy farms.For Poor people also, after acquiring wealth the first thing for them to stop is cow growing. Hearing some VHP/RSS/BAJRANGDAL etc mongering for cow slaughtering ban for vote bank politics ,Why others should avoid eating cow meat. PS:If the people who are treating cows as sacret decides to grow cow in their home We non-Hindu people will happyly accept this cow slaughtering ban.Show it to us that it is sacred to u by growing it in every of your home.If not it will remain as a religion polarisation tactics.
Missing
Analyst
72
18195
249
amal.onlineshop1 wrote:

ajit27 wrote:

wolf wrote:

Human Become Devil

No Matter Which Religion You Belongs To We All Drink Cow Milk From Birth And When We Grow Younger We Cut Cow And Eat

That’s Mean You Cutting Your Mother And Eating Who Help You To Feed You When You Are Not Able To Eat Hard Food….Bitter Truth Accept Or Just Ignore Behind Your Status And Hobby To Eat Other Life….

F***king Humans I Hate Them More Than Demons………Even Demons Never Kill And Eat Who Feed Them


Ditto bro.. You should never cut the animal from whom you get Milk, its like cutting your mother and nothing bad can happen than this..and this is shameful that Indian cut cows for foreigner’s ..those people laugh on us..that INDIAN’s ARE SO HUNGRY FOR MONEY THAT THEY CUT THE ANIMAL WHICH IS LIKE GOD FOR THEM AND THEIR RELIGION..AND THEY ARE HAPPY TO BREAK OUR RELIGIOUS VALUES..


Brother ..What I have heard is cow’s milk is not the best for children and has some cons also
http://www.indianexpress.com/news/cow-milk-for-….
So we should not kill goat which gives milk(is a better milk for children),For Arabs camel is the milk giver,eggs laying hens we are killing like any thing.

Next when comming to the religion point ,I’m from kerala with a majority about 50+% are hindus and rest are minorities.Here I cannot see any respect shown to cows by any one.Only people growing cows are poor people(irrespective of religion for their livelihood) or big dairy farms.For Poor people also, after acquiring wealth the first thing for them to stop is cow growing. Hearing some VHP/RSS/BAJRANGDAL etc mongering for cow slaughtering ban for vote bank politics ,Why others should avoid eating cow meat. PS:If the people who are treating cows as sacret decides to grow cow in their home We non-Hindu people will happyly accept this cow slaughtering ban.Show it to us that it is sacred to u by growing it in every of your home.If not it will remain as a religion polarisation tactics.

ist part is totally wrong…article related to harmfull effect in neonates & infants…

2nd part is correct…religious sentiments should nt be used for a particular animal, either protect all or kill all….why reservation to a particular animal..
Where r those fundamentalist when cows, buffalows hav to eat dirt , rubbish frm urban garbage bins & many r killed by consumption of plastics & other harmfull …isnt this the murder??

THe scenario of all butcher houses r same so why trying to sensationalise by such explicit statements & trying to flare up religious sentiments…

Missing
Deal Captain
75
13196
225

1st Ask Butchers To Slaughter Their Mother And Father Than Ask People To Growing…..Cow And Other Animal Lets See Them As Animal And Let Them Grow Die Birth Like Nature Way

Even If Cow Is Not Sacred Than Also Mercy On Poor Animal As Human Being Stop Eating Or Killing

Missing
Deal Cadet
142
172
22

Well, someone told me this long back :

“Across all mammals, Vegetarians have big teeth and non vegetarians have small & sharp teeth”…. Human teeth fall in the ‘Big’ category, we should stick to vegetables!

P.S : Am a non-vegetarian myself https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_wink.gif

Missing
Deal Captain
75
13196
225

If You Want To Eat Cow Chicken Tiger And Other Bird Than You Will Really Find Way To Eat And Different Excuse To Argue With Ppl That We Are Not Doing anything Wrong….

But If You Really Have Human Heart You Sure You Will Think Before Hurting Any Other Life On Earth

It’s Not About Religion Even Lots Of Hindus Also Eat Cow Pig Goat Afterall All Are Humans https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif

Muslim Don’t Eat Pig But Hindus And Other Religion Eat Them

Hindus Don’t Eat Cow But Other Eat Them

So No One Is Lucky Except Humans

But Nowadays They Also Become Cannibal And Eating Each Other In China Some Place They Serve New Born Baby https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif Good Progress

Missing
Deal Subedar
336
1586
68
amal.onlineshop1 wrote:

ajit27 wrote:

rajdesidime wrote:

why only cow, save all animals…


SAVE ALL..but better to start with cow..:lol: https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif


Brother please have a translation of this topic…Since in Hindi its very difficult…

Bro i was not able to find english version of this..sorry..:lol: https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif

Missing
Deal Subedar
336
1586
68

COW SLAUGHTERING IS NOT STARTED BY MUSLIMS..BRITISHER’S TORTURED MUSLIM COMMUNITY ESPECIALLY QURESHI TO START SLAUGHTERING OF COWS..SO THAT THEY CAN DIVIDE INDIA ON THE NAME OF RELIGION..WE ALL KNOW THE REST HOW HINDU N MUSLIM BROTHER ARE SEPARATED BY BRITISHERS ..CAN THE SAME EFFECT IS STILL THERE..

Missing
Deal Subedar
336
1586
68
wolf wrote:

If You Want To Eat Cow Chicken Tiger And Other Bird Than You Will Really Find Way To Eat And Different Excuse To Argue With Ppl That We Are Not Doing anything Wrong….

But If You Really Have Human Heart You Sure You Will Think Before Hurting Any Other Life On Earth

It’s Not About Religion Even Lots Of Hindus Also Eat Cow Pig Goat Afterall All Are Humans https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif

Muslim Don’t Eat Pig But Hindus And Other Religion Eat Them

Hindus Don’t Eat Cow But Other Eat Them

So No One Is Lucky Except Humans

But Nowadays They Also Become Cannibal And Eating Each Other In China Some Place They Serve New Born Baby https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif Good Progress


NICE THOUGHT BRO..:lol: https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_lol.gif

Missing
Deal Subedar
336
1586
68
amal.onlineshop1 wrote:

ajit27 wrote:

wolf wrote:

Human Become Devil

No Matter Which Religion You Belongs To We All Drink Cow Milk From Birth And When We Grow Younger We Cut Cow And Eat

That’s Mean You Cutting Your Mother And Eating Who Help You To Feed You When You Are Not Able To Eat Hard Food….Bitter Truth Accept Or Just Ignore Behind Your Status And Hobby To Eat Other Life….

F***king Humans I Hate Them More Than Demons………Even Demons Never Kill And Eat Who Feed Them


Ditto bro.. You should never cut the animal from whom you get Milk, its like cutting your mother and nothing bad can happen than this..and this is shameful that Indian cut cows for foreigner’s ..those people laugh on us..that INDIAN’s ARE SO HUNGRY FOR MONEY THAT THEY CUT THE ANIMAL WHICH IS LIKE GOD FOR THEM AND THEIR RELIGION..AND THEY ARE HAPPY TO BREAK OUR RELIGIOUS VALUES..


Brother ..What I have heard is cow’s milk is not the best for children and has some cons also
http://www.indianexpress.com/news/cow-milk-for-….
So we should not kill goat which gives milk(is a better milk for children),For Arabs camel is the milk giver,eggs laying hens we are killing like any thing.

Next when comming to the religion point ,I’m from kerala with a majority about 50+% are hindus and rest are minorities.Here I cannot see any respect shown to cows by any one.Only people growing cows are poor people(irrespective of religion for their livelihood) or big dairy farms.For Poor people also, after acquiring wealth the first thing for them to stop is cow growing. Hearing some VHP/RSS/BAJRANGDAL etc mongering for cow slaughtering ban for vote bank politics ,Why others should avoid eating cow meat. PS:If the people who are treating cows as sacret decides to grow cow in their home We non-Hindu people will happyly accept this cow slaughtering ban.Show it to us that it is sacred to u by growing it in every of your home.If not it will remain as a religion polarisation tactics.

DONT BELIEVE ON NONSENSE OF MEDIA..MEDIA IS JUST LIKE A PAID MACHINE, WHATEVER YOU WANNA DISTRIBUTE IN MASS, JUST PAY THEM AND THEY ARE HAPPY TO SAY ANYTHING..IF YOU PAY THEM AND SAY THAT SUN RISES IN WEST ..THEY WILL SAY THIS THOUSAND TIMES..AND IN THE END YOU WILL BELIEVE THEM..

Missing
Shopping Friend
456
11674
244
karjan0731 wrote:

Well, someone told me this long back :

“Across all mammals, Vegetarians have big teeth and non vegetarians have small & sharp teeth”…. Human teeth fall in the ‘Big’ category, we should stick to vegetables!

P.S : Am a non-vegetarian myself https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_wink.gif


genetically in herbivores/plant eating animals, incisors are the most prominent teeth, whereas in carnivores/meat eating animals, canines are bigger than incisors..in human beings incisors are more prominent than canines, therefore it can be said that humans were meant to be vegetarians rather than non-vegetarians.. https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif

Missing
Analyst
72
18195
249
login33 wrote:

karjan0731 wrote:

Well, someone told me this long back :

“Across all mammals, Vegetarians have big teeth and non vegetarians have small & sharp teeth”…. Human teeth fall in the ‘Big’ category, we should stick to vegetables!

P.S : Am a non-vegetarian myself https://cdn3.desidime.com/assets/textile-editor/icon_wink.gif


genetically in herbivores/plant eating animals, incisors are the most prominent teeth, whereas in carnivores/meat eating animals, canines are bigger than incisors..in human beings incisors are more prominent than canines, therefore it can be said that humans were meant to be vegetarians rather than non-vegetarians.. https://cdn1.desidime.com/assets/textile-editor/icon_smile.gif


evolution hai bhai…nwdys less people get 3rd molar..
imp is nt veg non veg…bt raw or cooked…

earlier for raw vegetables teeths were much bigger & 3rd molar was common…nw it nt..all evolved mechanism…disuse atrophy

Missing